क्या कहें यारों किसी से अब…………

बिखरने का सब़ब क्या कहें यारों किसी से अब,
काँच टूटता है तो कुछ टुकड़े समेटने में नहीं आते।

Leave a Reply